Breaking

Sunday, August 9, 2020

मूर्ख मित्र-और राजा | Foolish Friend-and King - Panchatantra





Moorakh Mittar-Panchtantra
मूर्ख मित्र- पंचतंत्र | Foolish Friend - Panchatantra 

मूर्ख मित्र-और राजा | Foolish Friend-and King - Panchatantra

एक समय की बात है , एक राजा के राजमहल में एक बन्दर सेवक के रुप में रहता था । वह राजा का काफी विश्वास-पात्र सेवक था । अतः वह बेरोक-टोक कुछ भी कर सकता था ।
एक दिन जब राजा बिश्राम कर रहा था, तथा बन्दर पंखा झल रहा था ठीक उसी समय बन्दर ने देखा कि, एक मधु-मक्खी बार-बार राजा की छाती पर बैठ जाती है । पंखे से बार-बार हटाने पर भी वह मानती नहीं है, बार-बार घुम-फिर कर वहीं बैठी जाती है ।

इस पर बन्दर को बड़ा क्रोध आया । उसने पंखा छोड़ कर हाथ में तलवार उठा लीया, और जैसे ही इस बार जब मधु-मक्खी राजा की छाती पर बैठने ही वाली थी कि उसने पूरे ताकत से मधु-मक्खी पर तलवार का वार कर दिया । मक्खी तो उड़ गई, परन्तु राजा की सीना तलवार की वार से घायल हो गया । जिससे राजा की मौके पे ही मृत्यु हो जाता है


शारांस - इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है की "एक विद्वान शत्रु एक मूर्ख मित्र से बेहतर होता है।"

 ये भी पढ़े :-



No comments:

Post a Comment

The Power of Big Thinking | बड़ी सोच का बड़ा जादू

बड़ी सोच का बड़ा जादू  इस हिंदी कोट्स में हम "The Power of Big Thinking" के बारे में पढ़ेंगे की कैसे एक "बड़ी सोंच" हमारी ...

More