Happy Diwali 2020: Puja Timing and Date - PkvTechnical

Breaking

Saturday, October 24, 2020

Happy Diwali 2020: Puja Timing and Date

Happy Diwali or Deepawali को festival of lights भी कहा जाता है , हमारे भारत देश का एक गौरव शैली और भक्ति पूर्ण त्यौहार में से एक है। दीपावली दो शब्दों के जोड़ से बना है , दिप +वली (Deepa+Wali) दिप मतलब दिया और वली मतलब प्रकाश होता है। 

Happy Diwali 2020: Puja Timing and Date, festival, Deepawali

दीपावली या लोकप्रिय रूप से दिवाली भारत में सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। दीवाली पूरे विश्व में प्रकाश, आतिशबाज़ी प्रदर्शन, प्रार्थना और उत्सव की घटनाओं का एक भारतीय त्योहार है। दीवाली अपने आध्यात्मिक महत्व के लिए जानी जाती है जो अंधकार पर प्रकाश की विजय की परिचायक भी है, बुराई पर अच्छाई, अज्ञान पर ज्ञान और निराशा पर आशा का प्रतीक है। Diwali पर हम धन की देवी लक्ष्मी की पूजा करते है, यह त्यौहार प्रायः दो से तीन दिनों तक मनाई जाती है जैसे :- छोटी दिवाली , भाई दूज , और अंत में बड़ी अर्थात मुख्य दिवाली। इस त्यौहार पर दिवाली के ठीक अगले दिन गोवर्धन पूजा किया जाता है। 


Diwali Date and Puja Time:

 दिवाली कब है ?

 १४-नवम्बर-2020 को 

 लक्ष्मी पूजा मुहूर्त कब है ?

 सायं 06.01 से 08.04 बजे तक

 कुल समय 

 2 घंटे 03 मिनट का 

 परदोस काल 

 सायं 05.55 से 08.25 बजे तक

 वृषभ काल 

 सायं 06.01 से 08.04 बजे तक

 

दिवाली का मतलब क्या है?

Deepawali एक बहुत बड़ा  Hindu festival है , जो भारत में ब्यापक रूप से मनाया जाता है, जिसका अर्थ है प्रकाश और’ अवली ’जिसका अर्थ है एक पंक्ति, अर्थात् रोशनी की एक पंक्ति में दीयो को जलाने की प्रथा है। 

दिवाली का धार्मिक महत्व क्या है?

Deepawali को धार्मिक महत्व का इतिहास बहुत पुराना है, त्रेता युग में अयोध्या के राजा प्रभु श्री राम जब 14 बर्षो के बनबास काट कर और श्रीलंका के राजा रावण पर विजय प्राप्त कर जब अयोध्या वापिस लौटते है तब अयोध्या वाशी उनका स्वागत ऐसे ही दिए जला कर करते है , बस तभी से इस त्यौहार को मनाया जाने लगा। 

दिवाली कैसे मनाई जाती है ?

 Diwali festival Dussehra से ठीक 20 दिन बाद कार्तिक अमावश्या को मानाया जाता है , इस त्योहार पर एक विशेष समय और घड़ी में धन की देवी Lakshmi जी की पूजा होती है। उसके पश्चात प्र्शाद के रूप में लोग एक दूसरे को  मिठाईया बांटते हैं और बधाई देते है।  Deepawali पर एक खास तरह की Rangoli भी बनाई जाती है, तथा घरों के दरवाजो के दोनों तरफ स्वाष्टिक का चिन्ह भी बनाया जाता है। 


No comments:

Post a Comment

शैतान जादूगर | Moral Stories | Bedtime Stories | Hindi Kahaniya

एक राज्य में एक राजा के तीन संतान थी और तीनो ही बेटिया थी, जिससे राजा अपने उत्तराधिकारी को ले करअत्यंत चिंतित रहते थे। परन्तु वे अपने सभी बे...

More